Drupal 8 - CMS (Hindi)

*/ /*-->*/

हिंदी दिवस – 14 सितंबर 2018 की शुभकामनाओं सहित

ड्रूपल – वैबसामग्री प्रबंधन तंत्र (Drupal – CMS)

सामान्यतया किसी भी वैबसामग्री या कंटेंट प्रबंधन तंत्र (CMS) को हम एक विशिष्ट सॉफ्ट्वेयर पैकेज मान सकते हैं जिसका प्रमुख उद्देश्य वैब-सामग्री के लेखन प्रकाशन और उसके प्रबंधन के लिये उपयोगी टूल्स प्रदान करना हो ।

Tags

Asian Games 2018

Asian Games 2018September 1 : India did exceptionally well claiming two more Gold medals a silver and a bronze to take their tally to 69 medals.. the best ever at Asian Games event. Amit Panghal gave India the first Boxing Gold and Bridge presented Gold in Men's Pair.. 

August 31 : India retains its Eighth position at XVIII Asian Games at Jakarta-Palembang 2018  with 65 medals already more than Asian Games 2014 Show and equal to 2010 Games.. with more medals still to come.. Though Women's Hockey team too disappointed loosing an opportunity to win Gold..

Indian Athletes covering up the ground lost by Indian Hockey.. Gold for Jinson Johnson and Women's 4X400 m Relay (fifth consecutive title for Indian Women there) 

What a National Sports Day it is turning out to be Swapna Barman takes Eleventh Gold Home.. Amazing Arpinder Singh wins Gold Number 10 for India.

The big news is India has won both Gold and Silver in Men's 800 m. Congratulations Manjit Singh

The big setback Indian Kabaddi team lost to Iran in semifinal encounter.. and Indian women too followed suit.. as they too loose to Iran in Finals..

Gold - Fifteen (15) - Bajrang Punia, Vinesh Phogat,  Saurabh Chaudhary , Rahi Sarnobat, Men's Quadruple Scull, Men's Doubles Tennis, Tajinder Pal Singh Toor, Neeraj Chopra, Manjit Singh, Arpinder Singh, Swapna Barman, Jinson Johnson, Women's 4X400 m Relay, Amit Panghal and Bridge Men's Pair

Silver - 24 and Bronze - 30

DNA Link to medalists

Indian Medalists at Jakarta-Palembang 2018

Report on Asian Games 2018

Asian Games Medalists 2014

Saurabh Chaudhary

Adbhut Naari

Gita Jiji

अद्भुत नारी

सुंदर नारी चकित हो रही
कहां छुपी सुंदरता उसकी
न ही प्यारी सी लगती
न फैशन के अनुरूप बनी
जब कहती वह इस जग से
झूठ उन्हे सब बातें लगती
वह कहती सुंदरता बसती
मेरी बांहों के पसार में
औ’ नितंब के चारागाह में
मेरे चलने की अदाओं में
ओंठों के सुंदर गोलाकार में
हां मैं नारी हूं
विस्मृत दिव्य स्वरूप धारी
एक अद्भुत नारी
हां वही तो हूं मै !

कक्ष में जब भी विचरण करती
शांत मूर्त हो कर तब चलती
और मनुष्य
सब खड़े रूप देख हो जाते
या घुटनों पे अपने टिक जाते
और काटने लगते चक्कर
जैसे मधुमक्खी छत्ते पर
वह कहती सुंदरता बसती
मेरे नयनों की ज्वाला में
दंतकांति के उस प्रकाश में
और झूमते कटिबंध में
पदचापों की मंद मस्ती में
यह सुंदरता बसती
विस्मृत दिव्य स्वरूप धारी
एक अद्भुत नारी
हां वही तो हूं मै !

मानव देख चकित रह जाते
यह देख रूप मेरा भरमाते
कोशिश करते भरसक अपनी
पर स्पर्श कहां कर पाते
अपने अंतर की छवि
जब कभी उन्हे दर्शाती
कहते देख नही पाते स्वरुप वह
मै कहती सुंदरता बसती
पृष्ठ भाग के धनु अकार में
दीप्त सूर्य से मंदहास में
आंचल के परिसर में रचती
भाव भंगिमाओं में बसती
हां, मैं हूं एक नारी !
विस्मृत दिव्य स्वरूप धारी
एक अद्भुत नारी

हां वही तो हूं मै !

क्या तुमको ज्ञात हुआ कुछ
क्यों मस्तक नही नत होता
न चिल्लाहट न झल्लाहट है
नही उंचे स्वर में होती है बात
राहों में मिल जाओगे कभी
होगा अनुभव एक स्वाभिमान
मैं कहती सुंदरता बसती
पग से प्रस्तुत उस चटपट में
केशों के बहते लटपट में
हाथों की सुंदर हथेलियों में
उस देख भाल की निर्भरता में
क्योंकि मै एक नारी हूं
विस्मृत दिव्य स्वरूप धारी
एक अद्भुत नारी
हां वही तो हूं मै !

अनुवाद : अभय शर्मा, मुंबई 26 मई 2017
Original : Phenomenal Woman by Maya Angelou